ऑनलाइन शॉपिंग में कैश ऑन डिलीवरी (COD) के फायदे

By | February 3, 2021

ऑनलाइन शॉपिंग में कैश ऑन डिलीवरी (COD) के फायदे – भारत में इस समय ऑनलाइन शॉपिंग काफी तेजी से बढ़ रहा है इससे समय और पैसे दोनों की बचत होती है। बड़ी-बड़ी ऑनलाइन शॉपिंग कम्पनियां जल्द-जल्द डिलीवरी देती हैं ताकि ग्राहकों का उन पर भरोसा बना रहे। ऑनलाइन शॉपिंग को बढ़ाने में कैश ऑन डिलीवरी सिस्टम का भी बड़ा योगदान है। आज भी भारत में कई प्रतिशत लोग ऑनलाइन पेमेंट करने से डरते हैं इसका कारण यह है कि उन्हें अपना पेमेंट डिटेल्स देने में सुरक्षा का खतरा लगता है या उनके पास जानकारी का अभाव है। देश में कई ऐसे भी लोग हैं जिनके पास बैंक खाते तो हैं लेकिन वे उनका प्रयोग कम ही करते हैं।

ऑनलाइन शॉपिंग में कैश ऑन डिलीवरी (COD) के फायदे

ऐसे में कैश ऑन डिलीवरी सिस्टम महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस सिस्टम के जरिए आप प्रोडक्ट को ऑनलाइन ऑर्डर करते हैं और पेमेंट ऑप्शन में जाकर कैश ऑन डिलीवरी मोड पर क्लिक करना होता है। इसके बाद आपसे आपका नाम, पता और कॉन्टेक्ट नंबर मांगा जाएगा। कुछ ही दिन में आपका सामान आपके पास पहुंच जाएगा। इसके बाद आप सामान की जितनी कीमत है उतनी कीमत कूरियर ब्वॉय को दे दीजिए। इस तरह से आपकी उस प्रोडक्ट की शॉपिंग पूरी हुई।

कैश ऑन डिलीवरी का इतिहास:

विश्व में कैश ऑन डिलीवरी का इतिहास काफी पुराना है। 1857 में जर्मनी के ग्राहक अपने पड़ोसी देश ऑस्ट्रेलिया से स्टफ मंगाने के लिए कैश ऑन डिलीवरी का प्रयोग किया करते थे। उस समय लोग कंपनी को पत्र लिखकर समान का ऑर्डर किया करते थे। इसके बाद वो कंपनी पार्सल के जरिए ग्राहक को सामान भेजती थी।

ग्राहक समान की कीमत पोस्टमैन को दे देता था। पोस्ट ऑफिस नकद लेनदेन के लिए सबसे भरोसे वाला माध्यम था क्योंकि इसका नेतृत्व उस देश की सरकार के हाथ में था। कैश ऑन डिलीवरी सिस्टम से कंपनियों के व्यापार में भी काफी इजाफा हुआ। इससे कोई भी कंपनी किसी भी जगह पर अपने ग्राहकों को सामान भेज सकती थी। अगर करेंसी एक्सचेंज की भी बात होती थी तो पोस्ट ऑफिस उसको एक्सचेंज करके कंपनी को पैसे दे देता था।

वर्तमान समय में कैश ऑन डिलीवरी:

वर्तमान समय में कैश ऑन डिलीवरी एक आम विकल्प बन गया है क्योंकि कई ई-कॉमर्स साइट और ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियां इस समय कैश ऑन डिलीवरी सिस्टम उपलब्ध कराती हैं। जिससे आप ऑनलाइन प्रोडक्ट सर्च करके उसे अपने घर मंगा सकते हैं। सामान के घर आने के बाद आप कूरियर ब्वॉय को नकद पेमेंट कर सकते हैं।

हालांकि कई कंपनियां कैश ऑन डिलीवरी के लिए 8 से 10 प्रतिशत तक एक्स्ट्रा चार्ज भी करती हैं। हालांकि कैश ऑन डिलीवरी मेथड में एक समस्या जरूर है कि यदि आप उस जगह पर खुद उपस्थित नहीं रहेंगे तो कूरियर ब्वॉय को पैसे कौन देगा? यह एक सवाल है जो हम अपने आप से पूछते हैं।

पेमेंट से पहले ऑर्डर चेक:

कैश ऑन डिलीवरी मोड में हम पेमेंट देने से पहले कुछ समय लेकर आओ ऑर्डर को चेक कर सकते हैं कि जो प्रोडक्ट आपने ऑर्डर किया है वो सही है या नहीं। अगर किसी कारणवश ऑर्डर किए गए प्रोडक्ट और डिलीवरी हुए प्रोडक्ट में भिन्नता मिली तो आप उसे तुरंत रिटर्न कर सकते हैं। इससे आपके पैसे बेवजह नहीं फस सकते हैं।

ऑनलाइन पेमेंट सुरक्षा:

आपको कोई भी प्रोडक्ट खरीदने के लिए किसी ऐसे साइट का उपयोग नहीं करना चाहिए जिसे बहुत कम लोग जानते हैं। ये साइटें आपके पर्सनल और पेमेंट डिटेल्स का मिसयूज कर सकते हैं। लेकिन अगर आपको कोई प्रोडक्ट पसंद आ गया और आपने कहीं से एड देखकर ऐसी साइट्स पर विजिट कर लिया तो प्रोडक्ट के पेमेंट ऑप्शन में जाकर कैश ऑन डिलीवरी मोड का ही उपयोग करें।

ऑफलाइन खरीददारी:

कैश ऑन डिलीवरी मेथड ऑफ़लाइन खरीददारी के लिए भी काफ़ी उपयुक्त है। मान लीजिए आपके मोहल्ले या शहर में कोई ऐसा स्टोर है जो अपने प्रोडक्ट की घर तक डिलीवरी करती है। आपको कोई प्रोडक्ट खरीदना है तो आपने ऑर्डर कर लिया। आपका प्रोडक्ट आपके घर पहुंच आया तो इसके लिए प्रोडक्ट को चेक करके पेमेंट करना सबसे अच्छा विकल्प रहेगा। यहाँ पर COD मेथड सबसे अच्छा और सरल भी होता है।

कैश जुटाने के लिए समय:

कैश ऑन डिलीवरी मेथड में आपके लिए सबसे अच्छा यह है कि प्रोडक्ट ऑर्डर करने के बाद आपको कुछ दिनों का समय मिल जाता है। इसके बीच में आप कैश का इंतजाम कर सकते हैं। कभी-कभी आपके पास ऐसी स्थिति हो जाती है कि आपने कोई प्रोडक्ट ऑर्डर कर दिया हो लेकिन उस डेट में आपके पास पैसे नहीं हैं।

ऐसे में आप कूरियर ब्वॉय को मना कर सकते हैं। लेकिन ऑनलाइन पेमेंट में आपको इस तरह की सुविधा नहीं मिल सकेगी क्योंकि इसमें आपको तुरंत ही पेमेंट करना पड़ेगा और ऑर्डर कैंसल करने के कई दिन बाद पैसे वापस आएंगे।

करेंसी एक्सचेंज की समस्या से छुटकारा:

किसी विदेशी कंपनी से समान ऑर्डर करके पेमेंट करने के लिए क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड करेंसी एक्सचेंज के कारण एक्स्ट्रा चार्ज लेते हैं या कई बार ऐसा भी होता है कि वो डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड एक्सेप्ट ही नहीं किए जाते। ऐसी स्थिति में COD मेथड आपके इस पैसे की बचत करा सकता है साथ ही डेबिट/क्रेडिट कार्ड के झंझट से भी छुटकारा दिलाता है।

COD के ये लाभ आपके ऑनलाइन शॉपिंग के अनुभव को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं। COD मेथड ऑनलाइन चोरी के खतरे को भी कम करता है, जो ऑनलाइन लेनदेन के बाद आपको दिक्कत में डाल सकते हैं। इसलिए, मैं आपको सुझाव दूंगा कि जहां संभव हो प्रोडक्ट की डिलीवरी होने पर भुगतान करें।